गांधी मंडेला पुरस्कार के लिए नामांकित श्री श्री रवि शंकर


श्री श्री रविशंकर जी एक आध्यात्मिक गुरु और शांति के राजदूत है। वे आर्ट ऑफ लिविंग फाउण्डेशन के संस्थापक हैं..

गांधी मंडेला पुरस्कार के लिए नामांकित श्री श्री रवि शंकर


 

गांधी मंडेला पुरस्कार के लिए आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर को नामांकित किया गया है। श्री श्री रविशंकर जी एक आध्यात्मिक गुरु और शांति के राजदूत है।  वे आर्ट ऑफ लिविंग फाउण्डेशन के संस्थापक हैं। रविशंकर जी का जन्म भारत के तमिलनाडु राज्य में 13 मई 1956 को हुआ। रविशंकर जी शुरू से ही आध्यात्मिक प्रवृत्ति के थे वे चार साल की उम्र में ही श्रीमद्भगवद्गीता के श्लोकों का पाठ कर लेते थे। बचपन में ही उन्होंने ध्यान करना शुरू कर दिया था। रविशंकर पहले महर्षि महेश योगी के शिष्य थे। उनके पिता ने उन्हें महेश योगी को सौंप दिया था। जिसके बाद वे महेश योगी के प्रिय शिष्यों में गिने जाने लगे।

रविशंकर लोगों को सुदर्शन क्रिया सशुल्क सिखाते हैं। इस बारे में उनका कहना है कि एक बार अपने दस दिन के मौन के दौरान कर्नाटक की भद्रा नदी के किनारे एक प्रेरणा की तरह उनके जेहन में उत्पन्न हुई। उन्होंने इसे सीखा और दूसरों को सिखाना शुरू किया और 1982 में श्री श्री रविशंकर ने आर्ट ऑफ लिविंग फाउण्डेशन की स्थापना की। 1997 में उन्होनें ‘इंटरनेशनल एसोसियेशन फार ह्यूमन वैल्यू’ की स्थापना की जिसका उद्देश्य वैश्विक स्तर पर उन मूल्यों को फैलाना है जो लोगों को आपस में जोड़ती है।

रवि शंकर कहते हैं कि सांस शरीर और मन के बीच एक कड़ी की तरह है जो दोनों को जोड़ती है। इसे मन को शांत करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। वे इस बात पर भी जोर देते हैं कि ध्यान के अलावा दूसरे लोगों की सेवा भी इंसान को करनी चाहिए। वे विज्ञान और आध्यात्म को एक-दूसरे का विरोधी नहीं, बल्कि पूरक मानते हैं। वे एक ऐसी दुनिया बनाने का प्रयत्न कर रहे हैं जिसमें रहने वाले लोग ज्ञान से परिपूर्ण हो ताकि वे तनाव और हिंसा से दूर रह सकें।

'गांधी मंडेला अवार्ड' राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आदर्शों और नेल्सन मंडेला के प्रेरणादायी जीवन को समर्पित पुरस्कार है जो ऐसी ही महान विभूतियों को दिया जाएगा जिन्होनें लोकल्याण के लिए कई कार्य किएं हैं। इस पुरस्कार के तहत भारत, नेपाल और बांग्लादेश के विशिष्ट दिग्गजों की एक अनुकरणीय समिति देश के इन महान स्तंम्भो को सम्मानित करेंगी। Interactive Forum On Indian Economy और गांधी मंडेला फाउंडेशन के महासचिव श्री नंदन झा ने ‘गांधी मंडेला अवॉर्ड के इस अनोखे मंच की शुरुआत की है।

Recent Posts

Categories