भारत के अहिंसक समृद्धि का रहस्य |


आज से 200 वर्ष पूर्व तक भी भारत सर्वाधिक समृद्ध देश रहा है| यहाँ के सबसे गरीब इंसान, खेतिहर मजदूर का खुराक यूरोप के किसान से बेहतर था| यह तथ्य कई अध्ययनों से पुष्ट है|

भारत के अहिंसक समृद्धि का रहस्य |


 के. एन. गोविन्दाचार्य
 
आज से 200 वर्ष पूर्व तक भी भारत सर्वाधिक समृद्ध देश रहा है| यहाँ के सबसे गरीब इंसान, खेतिहर मजदूर का खुराक यूरोप के किसान से बेहतर था| यह तथ्य कई अध्ययनों से पुष्ट है|
इस समृद्धि की कहानी में घर की माता, गोमाता, धरती माता के दिव्य त्रिकोण का विशेष योगदान है| इसमें भी भारतीय नस्ल के गोवंश का वैशिष्ट्य है यह कथन भी विज्ञान सम्मत है|
200 वर्ष पूर्व प्रतिमनुष्य गोवंश का औसत लगभग 10 तो रहा ही होगा, तभी गोवंश ह्त्या की व्यापक कोशिशों के बाद भी यह औसत 1 मनुष्य पर 1 गोवंश का रह गया| अंग्रेजों का मुख्य भोज्य पदार्थ गोमांस था| 1 लाख ब्रिटिश फौजी थे| 1860 से 1940 तक की अवधि मे प्रतिदिन 3 फौजी पर 1 गोवंश की ह्त्या की व्यवस्था दी गई| फलतः लगभग 40 करोड़ गोवंश का नुकसान तो भारत को हुआ ही होगा| भारत की भुक्ति -मुक्ति दायिनी गोमाता पर भीषण संकट था| वह स्थिति कमोवेश 1947 के बाद भी चालू ही है|
राम जन्मभूमि आंदोलन के एक विशिष्ट संत श्रद्धेय देवराहा बाबा ने अपने एक भक्त को कहा था “देखो बच्चा ! गायत्री भारत की वाक् है, गोमाता मनस्वरूपिणी है और गंगा मैया भारत की प्राण है|
गोमाता प्रसन्न तो भारत प्रसन्न, और जब गोमाता दुखी तो भारत दुःखी| यह कथन पिछले लगभग 300 वर्षों के आर्थिक दुर्दशा का सार विश्लेषण लगता है|
इस आधार पर कृषि, गोपालन, वाणिज्य की त्रिसूत्री को देखने की जरुरत है और समयानुकूल व्यवस्थित करने की जरुरत है| इसमे गोमाता का संरक्षण-संपोषण, संवर्धन कर श्रीघ्रातशीघ्र 1947 की स्थिति को लक्ष्य रखकर प्रयास की जरुरत है| आज 8 मनुष्य पर 1 गोवंश की स्थिति है इसे बढ़ाकर आजादी की स्थिति याने 19 करोड़ से बढ़ाकर 132 करोड़ तक ले जाने की जरुरत है|
“ इसके लिये 2016 मे संतों, विशेषज्ञों, गोपालको से परामर्श करते हुए गोमाता की ओर से निर्देश पत्र बना था| उस पर विचार एवं क्रियान्वयन सरकार और समाज दोनों से हो यह अपेक्षित है| वह निर्देश पत्र आपके समक्ष है| ”

Recent Posts

Categories