नहीं थम रहा बसों पर सियासी घमासान, राजस्थान सरकार ने मांग लिया यूपी सरकार से भुगतान


उत्तर प्रदेश में बस पॉलिटिक्स पार्ट-2 शुरू हो गयी है, बीजेपी-कांग्रेस के बीच छिड़ा घमासान अब दो राज्यों की सरकारों के संग्राम में बदल गया है। बसों की सियासत को लेकर यूपी सरकार और राजस्थान सरकार आमने-सामने आ गई हैं या कहा जाए की बीजेपी और कांग्रेस अपनी सियासी जंग में अपनी-अपनी सरकारों का इस्तेमाल कर रही हैं।

नहीं थम रहा बसों पर सियासी घमासान, राजस्थान सरकार ने मांग लिया यूपी सरकार से भुगतान


उत्तर प्रदेश में बस पॉलिटिक्स पार्ट-2 शुरू हो गयी है, बीजेपी-कांग्रेस के बीच छिड़ा घमासान अब दो राज्यों की सरकारों के संग्राम में बदल गया है।  बसों की सियासत को लेकर यूपी सरकार और राजस्थान सरकार आमने-सामने आ गई हैं या कहा जाए की बीजेपी और कांग्रेस अपनी सियासी जंग में अपनी-अपनी सरकारों का इस्तेमाल कर रही हैं।  राजस्थान के  डिप्टी सीएम सचिन पायलट, राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास और यूपी कांग्रेस के सह प्रभारी सचिव जुबेर खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और योगी सरकार को जमकर घेरा और कहा की योगी सरकार की सोच संक्रीण है, क्योंकि जब कोटा में यूपी की बसें छात्रों को लेने पहुंची थी तो उनमें भी कई बसों के नंबर थ्री व्हीलर के थे, लेकिन हमने कोई अड़ंगा नहीं लगाया था। 

आज उपमुख्यमंत्री एवं प्रदेशाध्यक्ष श्री @SachinPilot जी ने पीसीसी मुख्यालय पर, कांग्रेस पार्टी द्वारा प्रवासी श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने के लिए चलाई गई बसों पर उत्तरप्रदेश सरकार द्वारा की गई राजनीति के मुद्दे को लेकर आयोजित प्रेसवार्ता को संबोधित किया। pic.twitter.com/Vke0aY0XkP

— Rajasthan PCC (@INCRajasthan) May 22, 2020

 
यूपी सरकार ने कांग्रेस की बसों को बॉर्डर से वापस लौटाया तो राजस्थान सरकार ने कोटा से छात्रों की वापसी के मुद्दे पर नया दांव चल दिया। कोटा से उत्तर प्रदेश लाए गए छात्रों के लिए राजस्थान सरकार ने योगी सरकार से 36 लाख रुपये किराया मांगा है, इस किराए के बाद अब एक और खुलासा हुआ है कि कोटा से छात्रों को लाते समय रास्ते में बस का डीजल खत्म हो गया तो आधी रात को यूपी सरकार से 19 लाख रुपये वसूले गए, तब बसों को डीजल दिया गया था।  इस मामले पर यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने राजस्थान सरकार और कांग्रेस दोनों पर हमला बोला। 

कांग्रेस की चतुराई खुलकर सामने आई
हमदर्दी का नाटक करती कांग्रेस ने बच्चों से पैसे वसूल कर दिखाया असली रूप#CongressKaBusGhotala pic.twitter.com/Dmr7zu3NJ9

— BJP Uttar Pradesh (@BJP4UP) May 22, 2020

बसों के इस बवाल को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी कांग्रेस पर निशाना साधा है, मायावीत ने ट्वीट किया है कि कांग्रेसी राजस्थान सरकार एक तरफ कोटा से यूपी के छात्रों को अपनी कुछ बसों से वापस भेजने के लिए मनमाना किराया वसूल रही है तो दूसरी तरफ अब प्रवासी मजदूरों को यूपी में उनके घर भेजने के लिए बसों की बात करके जो राजनीतिक खेल कर रही है यह कितना उचित व कितना मानवीय? कुल मिलाकर यूपी में बसों पर छिड़ा सियासी संग्राम खत्म होता दिखाई नहीं दे रहा है।  यूपी सरकार ने कांग्रेस की बसें लौटाईं तो राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने उसे कोटा वाले बिल का रिमाइंडर थमा दिया।  इस सियासी संग्राम में मजदूरों का मुद्दा पूरी तरह से गायब हो गया, बस दोनों तरफ से अहम की सियासत चल रही है। 

Recent Posts

Categories