इस वजह से सुरक्षा गार्ड ने मारी मां-बेटे को गोली...


शनिवार को जज की पत्नी और बेटे को सुरक्षा में तैनात सिपाही ने गोली मार दी, शुरुआती जांच में ये चौंकाने वाली वजह सामने आई है।

इस वजह से सुरक्षा गार्ड ने मारी मां-बेटे को गोली...


शनिवार को गुरुग्राम में हुए जिस गोलीकांड से देश स्तब्ध था, रविवार को उसमें कुछ ऐसे खुलासे हुए, जिससे मामले में और चौंकाने वाला मोड़ आ गया है। शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि इसमें धर्म परिवर्तन का भी एक एंगल है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि महिपाल ने झल्लाते हुए कहा कि उसके धर्म परिवर्तन को लेकर अक्सर जज कृष्णकांत की पत्नी उससे भला-बुरा कहती थीं।

महिपाल पिछले डेढ़ साल से गुरुग्राम के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कृष्णकांत के परिवार की सुरक्षा में तैनात था, करीब 8 महीने पहले उसने हिंदू धर्म त्याग कर ईसाई धर्म अपनाया था।

जांच के लिए SIT गठित

इस मामले की गंभीरता को देखते हुए, जांच के लिए हरियाणा पुलिस ने तत्काल SIT का गठन कर दिया। इस SIT का नेतृत्व डीसीपी सुलोचना गजराज करेंगी, जबकि इसमें उनके अलावा 2 एसीपी और 4 इंस्पेक्टर शामिल हैं।

जब रक्षक ही बना क़ातिल

40 वर्षीय महिपाल हमेशा परिवार की सुरक्षा में तैनात रहता था, और शनिवार को जब जज की बीवी रितु और ध्रुव को लेकर वो गुरुग्राम के सेक्टर 51 स्थित आर्केडिया मॉल पहुंचा, तो कार से निकलते ही उसने दोनों पर गोलियां चला दी। रितु के सीने में दो गोली मारी गई, जबकि ध्रुव के माथे में दो गोलियां दागी गई। रितु की मौत मेदांता अस्पताल ले जाते वक्त हो गई, जबकि ध्रुव अब भी गंभीर हालत में ज़िंदगी की जंग लड़ रहा है।

दोलों को गोली मारने के बाद महिपाल ने उन्हें गाड़ी में डालने की कोशिश की, लेकिन असफल रहा, जिसके बाद वो वहां से फरार हो गया। खबर है कि इस वारदात को अंजाम देने के बाद महिपाल ने जज को फोन किया और उसके बाद अपनी मां से भी फोन पर बात की। अब वो पुलिस की हिरासत में है और इस मामले के सभी संभावित बिंदुओं पर जांच जारी है।