बीडीओ के खिलाफ़ धरने पर बैठे ग्राम प्रधान


पतारा विकास खंड के एक ग्राम विकास अधिकारी (पंचायत सेक्रेटरी) से नाराज़ ग्राम प्रधानों ने उसके खिलाफ मोर्चा निकाल दिया है।

बीडीओ  के खिलाफ़ धरने पर बैठे ग्राम प्रधान


कानपुर में पतारा विकास खंड के पंचायत सेक्रेटरी से नाराज़ ग्राम प्रधानों ने उसके खिलाफ़ मोर्चा निकाल दिया है। नाराज़ ग्राम प्रधान सोमवार को धरने पर बैठने के बाद मंगलवार को भी धरने पर बैठे। मौके पर पहुंची ब्लॉक प्रमुख ने उनकी मांगो से सहमति जता के उच्चाधिकारी से बात कर के हटवाने का भरोसा दिया है।

पतारा विकास खंड के ग्राम विकास अधिकारी शिवेंद्र त्रिवेदी के पास आगापुर, मुसेपुर, हथाई, पतरसा समेत आठ ग्राम पंचायतों का चार्ज है। ग्राम प्रधान का आरोप है कि शिवेंद्र त्रिवेदी महीने में एक बार भी गांव नहीं आते हैं।

जिसके कारण विकास कार्य ठप है। लोगों को केंद्र सरकार ओर राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी भी सही तरीके से नहीं मिल पाती है। इसके अलावा वह गांव के विकास कार्य में अड़ंगा भी लगाते है। जिससे नाराज़ आठ गांव के सभी ग्राम प्रधान व ग्राम प्रधान पतियों ने सोमवार से विकास खंड परिसर में ग्रश्म विकास अधिकारी शिवेंद्र त्रिवेदी को हटाने की मांग को लेके धरना शुरू कर दिया है।

मंगलवार को धरना दे रहे ग्राम प्रधान के समर्थन में कई अन्य गांव के ग्राम प्रधान व प्रधान पति विकास खंड कार्यालय पहुंचे और उसे तत्काल हटाने की मांग की।

प्रधान की धरना में ब्लॉक प्रमुख मीणा संघवार भी पहुंची और ग्राम प्रधानों की शिकायत पर सहमति जताते हुए शिवेंद्र त्रिवेदी को हटाने पर अपनी सहमति वयक्त की।

वहीं शिवेंद्र त्रिवेदी का कहना है कि वह अपने चार्ज वाले गांव के प्रधानमंत्री आवास व शौचालय के अभियर्थियों को किसी को पैसे न देने के लिए जागरूक करते है। जबकि ग्राम प्रधान पुराने बने शौचालय में भी रुपया जारी करने का दवाब बना रहे हैं।

मानक के विपरीत बने शौचालय को छोड़कर सभी लाभार्थियों का समय से चेक द्वारा भुगतान किया जा रहा है। ग्राम विकास अधिकारी ने आरोप लगाया कि धरना दे रहे ग्राम प्रधान लाभार्थियों से अवैध वसूली न कर पाने को लेकर नाराज़ हैं।