कृषि कुंभ 2018 में बोले मोदी, किसान बनेंगे ऊर्जादाता


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि अब वे दिन दूर नहीं जब देश का अन्नदाता ऊर्जा डाटा भी बनेगा। खेतोंं में फसलों के साथ सौर ऊर्जा भी पैदा होगी।

कृषि कुंभ 2018 में बोले मोदी, किसान बनेंगे ऊर्जादाता


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि अब वह दिन दूर नहीं जब देश का अन्नदाता ऊर्जादाता भी बनेगा। खेतो में फसलों के साथ सौर ऊर्जा भी पैदा होगी। अपनी ज़रुरत पूरी करने के बाद किसान बिजली भी बेच सकेगा। देश में इससे बड़ा परिवर्तन आएगा।

प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को भारतीय गन्ना अनुसन्धान संस्थान में आहूत प्रथम कृषि कुम्भ  के उद्घाटन समारोह को दिल्ली से विडिओ कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने किसानों की आय दोगुनी के लिए बीज से बाज़ार तक की बेहतर व्यवस्था की बात कही।

गुजरात के एक गांव का हवाला देते हुए मोदी ने कहा कि वह खेतों पर पैदा सौर्य ऊर्जा से किसान पचास हज़ार तक कमा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 25 लाख सोलर पेनल लगाने की दिशा में  कम चल रहा है। किसान पसीना बहाने के साथ तकनीकी कि ओर तेज़ी से बढ़ा है। बिजली पम्प को सोलर में बदलने लगा है।

तब हरित क्रांति,अब मीठी क्रांति

पीएम ने किसानों की जमकर तारीफ भी की। पीएम मोदी ने कहा की हरित क्रांति कामयाब होने के बाद देश को अब सफेद व् नीली क्रांति से आगे मीठी क्रांति की और बढ़ाना होगा। पीएम का मतलब था पशुपालन और मतस्यपालन की तरह मौनपालन व्चीनी खंडसारी व्यवसाय को प्रोत्साहित कर किसानों की आय बढ़ाने से था।

कृषि कचरा भी बनेगा कंचन

पीएम ने पराली समस्या की भी राह बताई। उनका कहना था कि खेत में कोई भी चीज बेकार नहीं होती। खेती का कचरा भी कंचन बन सकता है। परली को धन में बदलने की और सरकार तेज़ी से काम कर रही है। पराली का सदुपयोग करने वाले यंत्रों पर पचास से अस्सी प्रतिशत दिया जा रह है। साथ ही उन्होंने जलप्रबंधन पर ड्रिप इर्रिगेशन पर इज़राइल की सराहना की।

इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इज़राइल के सहयोग से कन्नौज व बस्ती में बने फूड प्रोसेसिंग फॉर एक्सीलेंस का लोकार्पण किया।