ग्राम पंचायत के प्रधान और उपप्रधान को ऐसे करें पदमुक्त


देश की करीब 70 फीसदी आबादी गाँवों में रहती है और पूरे देश में दो लाख 39 हजार ग्राम पंचायतें हैं। त्रीस्तरीय पंचायत व्यस्था लागू होने के बाद पंचायतों को लाखों रुपए का फंड सालाना दिया जा रहा है। कैसे करें प्रधान और उपप्रधान को पदमुक्त?

ग्राम पंचायत के प्रधान और उपप्रधान को ऐसे करें पदमुक्त


देश की करीब 70 फीसदी आबादी गाँवों में रहती है और पूरे देश में दो लाख 39 हजार ग्राम पंचायतें हैं। त्रीस्तरीय पंचायत व्यस्था लागू होने के बाद पंचायतों को लाखों रुपए का फंड सालाना दिया जा रहा है।

ग्राम पंचायतों में विकास कार्य की ज़िम्मेदारी प्रधान और पंचों की होती है। इसके लिए हर पांच साल में ग्राम प्रधान का चुनाव होता है। लेकिन ग्रामीण जनता को अपने अधिकारों और ग्राम पंचायत के नियमों के बारे में पता नहीं होता। 

ग्राम प्रधान-

हर गाँव में एक ग्राम प्रधान होता है। जिसको सरपंच या मुखिया भी कहते हैं। किसी भी ग्रामसभा में 200 या उससे अधिक की जनसंख्या का होना आवश्यक है। बता दें 1000 तक की आबादी वाले गाँवों में 10 ग्राम पंचायत सदस्य, 2000 तक 11 तथा 3000 की आबादी तक 15 सदस्य हाेने चाहिए।

ग्राम सभा बैठक-

ग्राम सभा की बैठक साल में दो बार होनी ज़रूरी है। जिसकी सूचना 15 दिन पहले नोटिस से देनी होती है। ग्रामसभा की बैठक बुलाने का अधिकार ग्राम प्रधान को होता है। बैठक के लिए कुल सदस्यों की संख्या के 5वें भाग की उपस्थिति जरूरी होती है। ग्राम पंचायत के 1/3 सदस्य किसी भी समय हस्ताक्षर करके लिखित रूप से यदि बैठक बुलाने की मांग करते हैं, तो 15 दिनों के अंदर ग्राम प्रधान को बैठक आयोजित करनी होगी।

उप प्रधान-

ग्राम पंचायत के सदस्य अपने में से एक उप प्रधान को चुनते हैं। यदि उप प्रधान का निर्वाचन नहीं किया जा सका हो तो नियत अधिकारी किसी सदस्य को उप प्रधान नामित कर सकता है।
 

प्रधान और उपप्रधान को पदमुक्त करने का तरीका-

प्रधान और उपप्रधान को अगर पद से हटाना हो तो सूचना प्राप्त होने के 30 दिन के अंदर ज़िला पंचायत राज अधिकारी गाँव में एक बैठक बुलाएगा। जिसकी सूचना कम से कम 15 दिन पहले दी जाएगी। बैठक में उपस्थित और वोट देने वाले सदस्यों के 2/3 बहुमत से प्रधान एवं उप प्रधान को पदमुक्त किया जा सकता है।

अगर ग्राम प्रधान या उप प्रधान गाँव की प्रगति के लिए ठीक से काम नहीं कर रहा है तो उसे पद से हटाया भी जा सकता है। समय से पहले पदमुक्त करने के लिए एक लिखित सूचना ज़िला पंचायत राज अधिकारी को दी जानी चाहिए। जिसमें ग्राम पंचायत के आधे सदस्यों के हस्ताक्षर होने ज़रूरी हैं। सूचना में पदमुक्त करने के सभी कारणों का उल्लेख होना चाहिए। हस्ताक्षर करने वाले ग्राम पंचायत सदस्यों में से तीन सदस्यों का ज़िला पंचायतीराज अधिकारी के सामने उपस्थित होना अनिवार्य होगा।

सूचना प्राप्त होने के 30 दिन के अंदर ज़िला पंचायत राज अधिकारी गाँव में एक बैठक बुलाएगा। जिसकी सूचना कम से कम 15 दिन पहले दी जाएगी। बैठक में उपस्थित और वोट देने वाले सदस्यों के 2/3 बहुमत से प्रधान एवं उप प्रधान को पदमुक्त किया जा सकता है।