अब चीन निर्यात करेगी भारत को गैर-बासमती चावल


भारत से चीन को गैर-बासमती चावल का निर्यात करने के लिए पांच और चावल मिलों को अनुमति दी गई है। अब भारत से चीन को गैर-बासमती चावल का निर्यात करने चावल मिलों की कुल संख्या 24 हो गई है।

अब चीन निर्यात करेगी भारत को गैर-बासमती चावल


भारत से चीन को गैर-बासमती चावल का निर्यात करने के लिए पांच और चावल मिलों को अनुमति दी गई है। अब भारत से चीन को गैर-बासमती चावल का निर्यात करने चावल मिलों की कुल संख्या 24 हो गई है।

बता दें चीन को गैर-बासमती चावल के निर्यात की पहली खेप सितम्बर 2018 में नागपुर से भेजी गई थी। इसी वर्ष मई में चीन के अधिकारियों ने गैर-बासमती चावल का निर्यात करने में सक्षम चावल मिलों का निरीक्षण किया था। साथ ही चीन को निर्यात करने के लिए 19 चावल मिलों और प्रसंस्करण इकाइयों का पंजीकरण किया था।

जानने में हैरानी होगी चीन दुनिया में चावल का सबसे बड़ा उत्पादक और आयातक है। वे हर वर्ष पांच मीट्रिक टन से अधिक चावल खरीदता है। 

इससे पहले जून में प्रधानमंत्री की चीन यात्रा के दौरान भारत से चीन को चावल के निर्यात के बारे में चीन के सामान्य सीमा शुल्क प्रशासन और भारत के पादप स्वच्छता संबंधी कृषि विभाग के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे।

कुछ वर्षों में भारत से चीन को एक मीट्रिक टन चावल के निर्यात की संभावना है। भारत का कुल चावल निर्यात पिछले वर्ष बढ़कर 12.7 मीट्रिक टन पर पहुंच गया, जो इससे पहले 10.8 मीट्रिक टन था।

Recent Posts

Categories