ग्राम पंचायत के कार्य


गांव के लोगों को रोज़गार दिलाने हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में संसाधनों का प्रबंधन करना एवं उत्पादन संबंधी कार्य को सुचारु रुप से चलाना एक प्रमुख कार्य है। गांव में प्राकृतिक संसाधनों की कमी नहीं है ज़रूरत है उसका प्रबंधन करना।

ग्राम पंचायत के कार्य


1 - संसाधनों के प्रबंधन एवं उत्पादन संबंधी कार्य

गांव के लोगों को रोज़गार दिलाने हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में संसाधनों का प्रबंधन करना एवं उत्पादन संबंधी कार्य को सुचारु रुप से चलाना एक प्रमुख कार्य है। गांव में प्राकृतिक संसाधनों की कमी नहीं है ज़रूरत है उसका प्रबंधन करना।

2 - ग्रामीण व्यवस्था एवं निर्माण संबंधी कार्य

ग्रामीण क्षेत्र में व्यवस्था बनाए रखने के लिए निर्माण संबंधी कार्यों को पूरा करने के लिए, राज्य सरकार व केंद्र सरकार विभिन्न योजनाएं चलाते हैं।

3 - मानवीय क्षमता वृध्दि संबंधी कार्य (स्किल डेवलपमेंट)

स्किल इंडिया की योजना सिर्फ भारत में नहीं भारत के गांव में भी लागू होती है। मानवीय क्षमता वृद्धि के लिए पंचायत जनप्रतिनिधि विभिन्न प्रकार का कार्यक्रम चला सकता है।

4 - कृषि एवं कृषि विस्तार

ग्रामीणों का मुख्य पेशा कृषि होता है और आय का स्रोत भी कृषि होता है इसलिए पंचायत प्रतिनिधि कृषि के विकास एवं विस्तार के लिए कार्य कर सकते हैं।

5 - सामाजिक एवं फार्म वनोद्योग,लघु वन उत्पाद, र्इंधन व चारा

समाज में सभी लोगों को रोज़गार मिले और पूरे साल मिले इस पर सुनिश्चित करने के लिए फार्म वनोद्योग, लघु उद्योग एवं जानवरों के लिए चारा जमा करना आदि शामिल है।

6 - पशुपालन, दुग्ध उद्योग एवं मुर्गी पालन

पशुपालन के लिए जानकारी, उनका टीका और उनका उपचार कराना भी पंचायती राज्य के अंतर्गत रखा गया है ताकि पशुपालन ज्यादा फायदेमंद हो।

7 - मछली पालन को बढ़ावा देना

मनरेगा योजना के तहत मछली पालन को प्रोत्साहित करने के लिए तालाबों की खुदाई ग्राम पंचायत के कार्यों में शामिल किया गया है। अगर किसी ग्रामीण क्षेत्र में नदियां हैं तो उनका संरक्षण एवं मछली पालन भी ग्राम पंचायत के कार्यों में शामिल किया गया है।

8 - खादी, ग्राम एवं कुटीर उद्योग बढ़ावा देना

छोटे उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं को लागू करवाना एवं जनता को उनके प्रति लोगों जागरुक करना, और जानकारी मुहैया कराना आदि शामिल है।

9 - ग्रामीण स्वच्छता तथा पर्यावरण

स्वच्छ भारत अभियान एवं राज्य सरकार के स्वच्छता कार्यक्रम को पंचायत के लोगों में प्रसिद्ध करना, प्रचलित करना, स्वच्छता के नियम स्थापित करना एवं सार्वजनिक स्थलों की सफाई सुनिश्चित करना भी ग्राम पंचायत के कार्य क्षेत्र में आता है। पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए पेड़ लगाने के प्रवधान किए गए हैं।

10 - ग्रामीण गृह निर्माण करना

सार्वजनिक स्थलों पर जैसे पंचायत भवनों का निर्माण, चबूतरों का निर्माण व पुस्तकालय निर्माण आदि शामिल है।

11 - पेयजल व्यवस्था करना

शुद्ध पेयजल की व्यवस्था करना, केंद्र एवं राज्य सरकार की सरकारी योजनाओं को लागू करवाना ग्राम पंचायत के कार्य क्षेत्र में शामिल है।

12 - सड़क, भवन, पुल, पुलिया एवं जलमार्ग

सड़क पुल एवं पुलिया के लिए सरकार पंचायतों को वित्तीय सहायता देती है। उसका देखभाल एवं मरम्मत का भी काम पंचायत के कार्य के क्षेत्र में शामिल है।

13 - विद्युतीकरण तथा वितरण

गांव में विद्युतीकरण के लिए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार की योजनाएं हैं इस योजनाओं का लागू करवाना, जहां पर बिजली नहीं पहुंचा हो वहां पर पहुंचाने के लिए प्रयास करना।

14 - गैर परम्परागत ऊर्जा स्रोत उपाय एवं संरक्षण

गैर परंपरागत ऊर्जा स्रोतों को संरक्षित करना और लोगों को इसके प्रति जागरुक करना, सोलर टावर का वितरण से लेकर गोबर गैस जानकारी लोगों तक पहुंचाना शामिल है।

15 - जनवितरण प्रणाली - वितरण की व्यवस्था

भारत सरकार एवं बिहार सरकार की अन्य योजनाओं में अनाजों, केरोसिन व चीनी आदि को  लोगों के बीच में वितरित करना

 

Recent Posts

Categories