मांसपेशियों में खिंचाव को ऐसे दूर भगाएं


मांसपेशियों में कमजोरी और खिंचाव आने के पीछे सबसे बड़ी वजह है, शरीर में पानी की मात्रा का कम होना। दरअसल, मानव शरीर में 70 प्रतिशत पानी होता है और शरीर का ऐसा कोई भाग नहीं है जहां पानी न हो। ऐसे में यदि शरीर में पानी की मात्रा कम होती है तो शरीर के दूसरे भाग इसे मदद करते हैं।

मांसपेशियों में खिंचाव को ऐसे दूर भगाएं


मांसपेशियों में कमजोरी और खिंचाव आने के पीछे सबसे बड़ी वजह है, शरीर में पानी की मात्रा का कम होना।दरअसल, मानव शरीर में 70 प्रतिशत पानी होता है और शरीर का ऐसा कोई भाग नहीं है जहां पानी न हो। ऐसे में यदि शरीर में पानी की मात्रा कम होती है तो शरीर के दूसरे भाग इसे मदद करते हैं।

जहां एक तरफ, पानी हमारे शरीर में लचीलेपन को बनाए रखता है और शरीर में डीहाईड्रेशन को बढ़ने नहीं देता जिससे स्वास्थ्य का संतुलन बना रहता है। वहीं, यह भोजन पचाने से लेकर मल क्रिया करने तक में पानी का महत्व होता है और यदि शरीर में पानी की ही कमी हो जाए तो शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है।

बता दें, यदि आप पानी कम पीते हैं या पीते ही नहीं तो इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि आपको दौड़ना नहीं चाहिए। ऐसा इसीलिए है क्योंकि पानी की वजह से मांसपेशियों में सख्ती नहीं आती। दौड़ने के बाद जिस खिंचाव या दर्द का अहसास लोग करते हैं उसे 'ग्रोइंग पेन' कहते हैं। कभी-कभी यही 'ग्रोइंग पेन' काफी दर्दभरा हो जाता है और ऐसी स्थिति में डॉक्टर पानी पीने की सलाह ही देते हैं।

दरअसल, मांसपेशियों में कमज़ोरी का आना आज बहुत आम हो गया है और इसकी सबसे बड़ी वजह यही है कि युवा पीढ़ी पानी के महत्व को नहीं समझ रही है और उसके उलट जंक और दूसरे तरह के भोजन को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बना रही है।

पानी का करें रोज़ सेवन

ध्यान दें, एक दिन में कम से कम 3 से 4 लीटर पानी अवश्य पीएं और नित्य व्यायाम करें व पौष्टिक आहार को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।