लोकसभा चुनाव का पूरा कार्यक्रम


लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान अब हो गया है। वहीं मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान करनते हुए बताया कि चुनाव 7 चरणों में संपन्‍न होंगे। जहां एक तरफ पहला चरण 11 अप्रैल को होगा।तो वहीं 23 मई को मतगणना की तारीख तय हुई है।

लोकसभा चुनाव का पूरा कार्यक्रम


लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान अब हो गया है। वहीं मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान करनते हुए बताया कि चुनाव 7 चरणों में संपन्‍न होंगे। जहां एक तरफ पहला चरण 11 अप्रैल को होगा।तो वहीं 23 मई को मतगणना की तारीख तय हुई है।

इसके साथ ही पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनाव भी लोकसभा चुनाव के साथ ही होंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने रविवार को चुनाव कार्यक्रम घोषित करते हुये बताया कि आगामी लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिये 11 अप्रैल को होने वाले मतदान की अधिसूचना 18 मार्च को जारी की जायेगी। दरअसल 2014 में 16वीं लोकसभा का चुनाव नौ चरण में कराया गया था। साथ ही उन्होंने कहा कि आम चुनाव का कार्यक्रम घोषित होने के साथ ही देश में चुनाव आचार संहिता तत्काल प्रभाव से लागू हो गयी है।

अरोड़ा ने चुनाव आयुक्तों अशोक लवासा और सुशील चंद्रा के साथ संवाददाता सम्मेलन में बताया कि दूसरे चरण का मतदान 18 अप्रैल, तीसरे चरण का मतदान 23 अप्रैल, चौथे चरण का मतदान 29 अप्रैल, पांचवें चरण का मतदान छह मई, छठवें चरण का मतदान 12 मई और सातवें चरण का मतदान 19 मई को होगा। अरोड़ा ने कहा कि 23 मई को मतगणना के आधार पर चुनाव परिणाम घोषित होगा।

समूची चुनाव प्रक्रिया 27 मई को सम्पन्न करने का लक्ष्य तय किया गया है। मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल तीन जून को समाप्त होना है। चुनाव कार्यक्रम की घोषणा होते ही आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। इस चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुन: सत्ता में लौटने की कोशिश करेंगे, तो दूसरी ओर भाजपा के खिलाफ कई राजनीतिक दल एकजुट होकर पार्टी को फिर से सत्ता में आने से रोकने का प्रयास करेंगे। आचार संहिता लागू हो जाने के बाद सरकार नीतिगत निर्णय नहीं ले सकेगी।

 11 अप्रैल को पहले चरण में आंध्र प्रदेश की 25, अरुणाचल प्रदेश की 2, असम की 5, बिहार की 4, छत्तीसगढ़ की 1, जम्मू-कमश्‍मीर की 2, महाराष्ट्र की 7, मणिपुर की 5, मेघालय की 2, नगालैंड की एक, ओडिशा की 1, सिक्किम की एक, तेलगांना की 17, त्रिपुरा की 1, उत्तर प्रदेश की 8, पश्चिम बंगाल बंगाल की 2, अंडमान की 1, लक्ष्यद्वीप की 1 सीट पर मतदान होगा।

आपको बता दें, जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव, लोकसभा चुनावों के साथ नहीं होंगे।

सातवें चरण का मतदान 19 मई को होगा जिसमें 8 राज्‍यों की 59 सीटों के लिए वोटिंग होगी।

छठा चरण 12 मई को होगा जिसमें 7 राज्‍यों की 51 लोकसभा सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे।

पांचवें चरण में 6 मई को 7 राज्‍यों की 51 लोकसभा सीटों पर मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

चौथे चरण में 29 अप्रैल को 9 राज्‍यों की 71 सीटों के लिए मतदान होगा।

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में 14 राज्‍यों की 115 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे।

दूसरे चरण में 18 अप्रैल को 13 राज्‍यों की 97 सीटों के लिए मतदान होगा।

11 अप्रैल को पहले चरण में 20 राज्‍यों की 91 लोकसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे।

फेक न्यूज और हेट स्पीच पर कंड्रोल करने केलिए सोशल मीडिया से अधिकारी की नियुक्ति करने को कहा गया है।

सभी सोशल मीडिया को इस दौरान किसी भी राजनीतिक पार्टी के विज्ञापन को जारी करने के लिए जानकारी देनी होगी। स्वीकृति मिलने के बाद ही वह ऐसा कर सकते हैं। गूगल और एफबी को भी ऐसे विज्ञापन दताओं की पहचान करने के लिए कहा गया है।

पांचवां चरण 6 मई को, छठे चरण का मतदान 12 मई को और सातवें व अंतिम चरण का मतदान 19 मई को होगा।

18 अप्रैल को होगा दूसरे चरण का मतदान, जबकि तीसरे चरण 23 अप्रैल और चौथा चरण 29 अप्रैल को होगा।

सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जाएगी। सोशल मीडिया पर कैंपेनिंग का खर्चा भी जोड़ा जाएगा।

पेड न्यूज पर कार्रवाई के लिए हर तैयारी की गई है। मीडिया एक्सपर्ट को भी चुनाव आयोग ने तैयार किया है जो इस तरह की न्यूज पर नजर रखेंगे।

मीडिया से सभी राज्यों के चुनावआयुक्तों से बात करने के लिए कहा गया है. ताकि कवरेज निष्पक्ष हो।

सभी बूथ पर सीसीटीवी कैमरा होगा। मतदाताओं तक पहुंचने के लिए हर तरह की कोशिश की गई है।

समाधान वेब पोर्टल भी होगा आम जनता के लिए। फीडबैक के लिए यह पोर्टल होगा।

मतदान के बाद सभी को मिलेगी पर्ची। एक ऐप भी लांच होगा जिसकी मदद से कोई भी मतदाता किसी भी नियम उल्लंघन को कैमरे में कैद कर सीधे हमें भेजा सकेगा।

सभी इवेंट की वीडियोग्राफी होगी, पर्याप्त संक्या में पर्यवेक्षको की नियुक्ति होगी।

पांच राज्‍यों में विधानसभा चुनाव भी लोकसभा चुनाव के साथ ही होंगे।

लाउडस्पीकर का इस्तेमाल रात 10 से सुबह छह तक बंद रखना होगा। हमारा फोकस ध्वनी प्रदूषण को कम करने पर भी है।

सभी उम्मीदवारों को अपनी संपति और शिक्षा का ब्यौरा देना होगा, फॉर्म 26 भरना होगा।

चुनावों की घोषणा के साथ ही आचार संहिता लागू, किसी भी तरह के नियम उल्लंघन पर कार्रवाई की जाएगी।

नाम चेक करने के लिए स्‍पेशल नंबर होगा '1950', करीब 10 लाख पोलिंग स्‍टेशन होंगे, पिछली बार 9 लाख थे।