मक्के की खेती में अधिक मुनाफा ऐसे कमाएं


बिहार के किशनगंज जिले के किसान अब आर्थिक रूप से मज़बूती की ओर बढ़ते जा रहे हैं। दरअसल यहां के किसान मक्के की खेती में खास रूचि दिखा रहे हैं। बता दें मक्के की खेती राज्य में हर साल बढ़ती जा रही है।

मक्के की खेती में अधिक मुनाफा ऐसे कमाएं


बिहार के किशनगंज जिले के किसान अब आर्थिक रूप से मज़बूती की ओर बढ़ते जा रहे हैं। दरअसल यहां के किसान मक्के की खेती में खास रूचि दिखा रहे हैं। बता दें मक्के की खेती राज्य में हर साल बढ़ती जा रही है।

वहीं कृषि विभाग की तरफ से बताया गया है इस बार भी रबी फसलों में सबसे ज्यादा मक्के की खेती की जा रही है. बता दें इस बार किशनगंज में 9047 (नौ हजार सैंतालीस) हेक्टेयर पर मक्का की खेती हो रही है. जबकि इसका लक्ष्य 3 हेक्टयर ही रखा गया था. साथ ही पहले यहां के किसान अदरक और पाट की सबसे ज्यादा खेती करते थे। अब अगर मौसम का मिजाज ठीक रहा तो 76 (छिहत्तर) हजार 8 सौ से अधिक मिल्लियन टन मक्के का उत्पादन होगा।

इसके साथ ही, जिले के किसान आत्मनिर्भर और सशक्त हो रहे है। सात ही मक्के का उत्पादन भी बढ़ता ही जा रहा है। आपको बता दें लक्ष्य से तीन गुना भू-भाग में मक्का लगाना साफ संकेत देता है कि किसान अन्य फसलों की तुलना में किसान मक्के की ओर ज्यादा आकर्षित हुए है। यहां के किसानों के लिए मक्के की फसल किसी वरदान से कम साबित नहीं रही है।



यह भी पढ़ें-

इस जेल के कैदी बन रहे हैं हाईटेक किसान
 


आपको बता दें माध्यम वर्गीय किसान मक्का को नगदी फसल के रूप में स्वीकार कर लिया है। जिससे जिले के किसान सशक्त हो रहे है। अब यहां के किसान भी मक्के के खेती बड़े चाव से करने लगे है। साथ ही यहां के किसानों का मानना है कीं प्रति हेक्टर मक्का उत्पादन करीब 85-90 कुंतल होता है।

 
 

Recent Posts

Categories