मंगल दोष से बचने के ये हैं उपाय...


यदि आपकी कुंडली मे मंगल ग्रह चौथे, सातवें, आठवें या दसवें भाव में हो तो इसे मंगल दोष कहा जाता है। ऐसे मे ज़रुरी है, की आपके जीवन साथी की कुंडली में भी मंगल दोष हो। अगर ऐसा नहीं है, तो आपके पार्टनर की मौत भी हो सकती है।

मंगल दोष से बचने के ये हैं उपाय...


अगर हमारी जन्म कुंडली में ग्रहों की दशा सही है तो हर काम आसानी से होता है। अगर ग्रहों की दशा सही नहीं है तो बना काम भी बिगड़ जाता है। सभी ग्रहों की अपनी एक अलग पहचान होती है, चाल होती है। उसमें एक है मंगल ग्रह, जो हमारे जीवन मे बहुत ज़्यादा प्रभाव छोड़ता है। अगर आपके ऊपर मंगल दोष हो तो आदमी हमेशा ही परेशान रहता है।  

मंगल दोष क्या है

यदि आपकी कुंडली मे मंगल ग्रह चौथे, सातवें, आठवें या दसवें भाव में हो तो इसे मंगल दोष कहा जाता है। ऐसे मे ज़रुरी है, की आपके जीवन साथी की कुंडली में भी मंगल दोष हो। अगर ऐसा नहीं है, तो आपके पार्टनर की मौत भी हो सकती है। इसका असर ख़ासकर शादी शुदा ज़िंदगी पर पड़ता है।

मंगल दोष के निवारण

1. हर मंगलवार को मंगलदेव का विशेष पूजन करना चाहिए। मंगलदेव को प्रसन्न करने के लिए उनकी प्रिय वस्तुओं जैसे तांबा, मसूर, लाल मसूर, गुड़, घी, रक्त चंदन, लाल कनेर का फ़ूल, लाल गेंहु, किसी गरीब को दान करें। इससे मंगल का प्रभाव कम होता है।

2. मंगल शरीर में रक्त का कारक होता है और ज्योतिष शास्त्र में मंगल को लाल रंग का प्रतिनिधित्व करने वाला ग्रह माना जाता है। ऐसे में लाल कपड़े दान करने से मंगल दोष का प्रभाव कम होता है। पर लाल रंग के कपड़े कभी ना पहनें।

3.गुस्सा करने से मंगल दोष का प्रभाव कम के बजाय और बढ़ जाता है। तो अपने गुस्से पर काबू रखें। 

4. जिन लोगों की कुंडली में मंगल दोष है वो लोग हर एक मंगलवार को शिवलिंग पर कुमकुम चढ़ायें। इसके साथ ही शिवलिंग पर लाल मसूर की दाल और लाल गुलाब अर्पित करें और मंगलवार को एक समय खाना खाएं।

5.मंगल दोष के प्रभाव कम करने के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करें।

इन सभी आसान उपायों को आज़मा के आप मंगल दोष के प्रभाव को कम कर सकते हैं।

 

Recent Posts

Categories