'...अंजलि जैसा कुछ मेरे साथ भी होता': घसीटने की घटना पर स्वाति मालीवाल


दिल्ली पुलिस ने बताया कि आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसका नाम हरीश चंद्रा (47) है। वह नशे की हालत में था। पुलिस ने यह भी बताया कि आरोपी और पीड़िता का मेडिकल टेस्ट करवाया गया है।

'...अंजलि जैसा कुछ मेरे साथ भी होता': घसीटने की घटना पर स्वाति मालीवाल


दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल को गुरुवार तड़के 3.11 बजे एक कार से 10 से 15 मिनट तक घसीटने का मामला सामने आया है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि यह घटना राजधानी दिल्ली स्थित AIIMS अस्पताल के गेट नंबर 2 पर हुई।

पुलिस ने बताया कि कार चालक ने स्वाति मालीवाल से कार में बैठने के लिए कहा था, इसके बाद वह उसे फटकारने लगीं। तभी कार चालक ने गाड़ी का शीशा ऊपर कर दिया और उनका हाथ कार में फंस गया।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसका नाम हरीश चंद्रा (47) है। वह नशे की हालत में था। पुलिस ने यह भी बताया कि आरोपी और पीड़िता का मेडिकल टेस्ट करवाया गया है। पुलिस ने यह भी बताया कि स्वाती मालीवाल घटना के पास वाली जगह पर अपनी टीम के साथ फुटपाथ पर खड़ीं थीं।

इस मामले पर दिल्ली पुलिस के डीसीपी चंदन सिंह ने बताया कि आज हौज़ खास थाने में एक कॉल आई,एक महिला को एक कार वाले ने गलत इशारे किए और 10-15 मीटर तक घसीटा। गरुणा वैन की मदद से पुलिस ने आरोपी को पकड़ा। आरोपी की उम्र 47 वर्ष है और उसने शराब का सेवन किया था।

स्वाती मालीवाल ने ट्वीट कर बताया, “कल देर रात मैं दिल्ली में महिला सुरक्षा के हालात Inspect कर रही थी। एक गाड़ी वाले ने नशे की हालत में मुझसे छेड़छाड़ की और जब मैंने उसे पकड़ा तो गाड़ी के शीशे में मेरा हाथ बंद कर मुझे घसीटा। भगवान ने जान बचाई। यदि दिल्ली में महिला आयोग की अध्यक्ष सुरक्षित नहीं, तो हाल सोच लीजिए।”

स्वाती मालीवाल ने न्यूज एजेंसी ANI को बातचीत में बताया, “मैं कल रात दिल्ली में निरीक्षण करने निकली थी। एक गाड़ी मेरे पास आई, उसमें जो आदमी बैठा हुआ था वो नशे में धुत था। वो मुझे गाड़ी में बैठने के लिए पूछने लगा और मेरे मना करने पर वो गुस्से में चला गया। थोड़ी देर बाद वो फिर आया, मुझे गंदे-गंदे इशारें करने लगा।”

उन्होंने आगे कहा, “जब मैंने उसे पकड़ने की कोशिश की तो उसने गाड़ी का शीशा ऊपर कर दिया…उसने मुझे 10-15 मीटर तक घसीटा। मेरी टीम के एक आदमी और मैंने चिल्लाया फिर उसने मुझे छोड़ा। अगर वह मुझे नहीं छोड़ता तो मेरे साथ भी अंजलि की तरह बहुत बड़ी घटना हो जाती।”

Recent Posts

Categories