इस राज्य में हुआ बीज के दामों में इज़ाफा


छत्तीसगढ़ में रबी फसलों की तैयारी कर रहे किसानों को एक और झटका लगा है। दरअसल राज्य में रासायनिक खाद के बाद अब बीजों के दामों में भी बढ़ोतरी हो गई है। नई दरों के बाज़ार में पहुंचते ही किसानों को भारी कीमत पर बीज की खरीददारी करनी पड़ रही है।

इस राज्य में हुआ बीज के दामों में इज़ाफा


छत्तीसगढ़ में रबी फसलों की तैयारी कर रहे किसानों को एक और झटका लगा है। दरअसल राज्य में रासायनिक खाद के बाद अब बीजों के दामों में भी बढ़ोतरी हो गई है। नई दरों के बाज़ार में पहुंचते ही किसानों को भारी कीमत पर बीज की खरीददारी करनी पड़ रही है।

राज्य में रासायनिक खाद की कीमतों में बढ़ोतरी हो जाने से भारी तेज़ी के बाद रबी सत्र में बोई जाने वाली फसलों के बीज के दाम बढ़ गए हैं। इनमें सबसे ज्यादा दाम गेहूं के बढ़े है, जिसकी खेती सबसे ज्यादा रकबे में ली जाती है। इसके बाद दूसरी फसल सरसों है जिसमें दाम में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। बाज़ार में पहले से ही तेज़ चल रही कीमतों के बाद जिस तरीके से बीज बेचने वाली कंपनियों ने दामों में बढ़ोतरी की है उसकी वजह से राज्य के किसानों के हौसले पहले से ही पस्त हो चुके हैं। 

बीजों की नई कीमत-

 गेहूं-  5500 से 6000 रूपए प्रति क्विंटल

 सरसों- 15000 से 20000 रूपए प्रति क्विंटल

 धनिया- 18000 से 24000 रूपए प्रति क्विंटल

 अलसी- 3000 से 4000 रूपए प्रति क्विंटल

 तिल- 15000 से 20000 रूपए प्रति क्विंटल

 सोयाबीन- 7000 से 8000 रूएए प्रति क्विंटल

Recent Posts

Categories